जहरीले प्रदूषण कि शिकायत पर जिला प्रशासन हरकत में आया

इस खबर को सुनें

 

 

लाल कुंआ

 

लालकुआ क्षेत्रवासियों द्वारा कि जा रही लगातार सेचुरी पेपर मिल के जहरीले प्रदूषण कि शिकायत पर जिला प्रशासन हरकत में आया इसी के चलते शनिवार को उपजिलाधिकारी कि अगुवाई में प्रशासन कि टीम ने बिन्दूखत्ता के घोड़ानाला पहुचकर दूषित नाले का निरीक्षण किया।
बताते चले कि सेंचुरी पेपर मिल से निकलने वाले केमिकल युक्त गंदे पानी को घोड़ानाला क्षेत्र में छोड़े जाने की कई दिनों से मिल रही शिकायत पर शनिवार को उपजिलाधिकारी मनीष कुमार ने कोतवाल संजय कुमार के साथ संबंधित क्षेत्र का निरीक्षण किया इस दौरान उपजिलाधिकारी ने मौके पर ही मिल से निकल रहे केमिकल युक्त पानी कि विडियोग्राफी करते हुए पेपर मिल प्रबंधन को तुरंत ही नोटिस जारी करने के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिये।

इधर स्थानीय महिला जानकी देवी ने बताया कि मिल द्वारा छोड़े जा रहे केमिकल युक्त गंदे पानी और उसकी बदबू से क्षेत्र में गम्भीर बीमारियां फैल रही है तथा केमिकल युक्त पानी से उनकी कई एकड़ खेतों कि फसलें नष्ट हो गई साथ ही नाले के आसपास के क्षेत्रो में लोगों के लिए पानी पीने योग नही है यहां के लोग गम्भीर बीमारी की चपेट में आकर अकाल मौत मर रहे है उन्होंने कहा कि उनकी यहां समस्या बरसों से बनी हुई है उन्होंने कहा कई अधिकारी आए और चले गए लेकिन आज तक मिल प्रबंधक पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई है उन्होंने मिल प्रबंधन पर जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की है।

इधर उपजिलाधिकारी मनीष कुमार ने बताया कि उनके द्वारा घोड़ानाला पहुचकर मिल के केमिकल युक्त गंदे नाले का निरीक्षण किया उन्होंने कहा कि जल्द ही प्रशासन द्वारा गंदे पानी कि सैपलिंग कराई जाएगी।

उन्होंने कहा मिल का पानी बदबूदार ओंर केमिकल युक्त हैं जिसके चलते नाले के आसपास क्षेत्रों में डेंगू मलेरिया सहित अन्य गंभीर बीमारियां का खतरा बना हुआ है जिसपर उनके द्वारा मिल प्रबंधन को नोटिस भेज कर उचित कार्रवाई की जाएगी।