संयुक्त किसान मोर्चे ने लखीमपुर खीरी के शहीद किसानों के अस्थि कलश को हरिद्वार में किया विसर्जित

इस खबर को सुनें

डोईवाला
संयुक्त किसान मोर्चे ने लखीमपुर खीरी के शहीद किसानों के अस्थि कलश को हरिद्वार के कनखल स्थित सती घाट पर विसर्जित कर अस्थिकलश यात्रा का किया समापन ।

लखीमपुर खीरी में भाजपा के कार्यकर्ताओं द्वारा आंदोलित किसानों की कुचल कर हत्या किए जाने के बाद संयुक्त किसान मोर्चे ने उन शहीद किसानों के अस्थि कलशयात्रा को उत्तराखंड के विभिन्न क्षेत्रों से श्रद्धांजलि देते हुए 20,21व 22 अक्टूबर को डोईवाला जे प्रत्येक गांव से होते हुए 23 अक्टूबर बको डोईवाला गुरुद्वारा में रखा गया था जहां से आज सभी किसानों ने सूबह 10 बजे गुरद्वारा लंगर हाल पर इकट्ठा होकर शहीदों के लिये अरदास की और उनको नम आँखों से श्रद्धांजलि देते हुए हरिद्वार के लिए रवाना हुए और गाजीपुर संयुक्त किसान मोर्चे के प्रवक्ता जगतार सिंह बाजवा की उपस्थिति में कनखल के सती घाट पर शहीदों की अस्थियों को विसर्जित कर उन्हें अंतिम विदाई दी ।
डोईवाला में श्रद्धांजलि देते हुए संयुक्त किसान मोर्चे के प्रदेश संयोजक और किसान सभा के प्रांतीय महामंत्री गंगाधर नौटियाल ने कहा कि देश मे चल रहा किसान आंदोलन किसानों के लिए ही नहीं अपितु छोटे कारोबारी, मजदूर और व्यापारियों के लिए बहुत जरूरी है क्योंकि केंद्र सरकार द्वारा लाये गये काले कानूनों से ये सभी प्रभावित होंगे ।
किसानों को श्रद्धांजलि देते हुए ताजेन्द्र सिंह, बलबीर सिंह और ज़ाहिद अंजुम ने कहा कि लखीमपुर के शहीदों की शहादत बेकार नहीं जाएगी जब तक सरकार तीनो काले कानूनों को वापस नहीं लेगी और एमएसपी की कानूनी गारण्टी नहीं देती तब तक किसान देश मे अपना आंदोलन जारी रखेगी । उन्होंने कहा कि जिस तरह किसानों, छात्रों और सभी वर्ग के लोगो ने प्रत्येक गांव में शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए सरकार जे खिलाफ अपनी नाराजगी का इज़हार किया उससे साबित होता है लोग आने वाले समय मे भाजपा सरकार को जरूर सबक सिखाएगी ।
श्रद्धांजलि सभा को सुरेन्द्र सिंह खालसा, उमेद बोरा, मोहित उनियाल, गुरदीप सिंह ,आदि ने भी सम्बोधित किया ।
श्रद्धांजलि और अस्थि विसर्जन कार्यक्रम में मुख्य रूप से जगदीश कुकरेती, करेशन सिंह, रुद्र उपाध्याय, इन्दर जीत सिंह, बंटी , मोंटी सिंह, गुरपाल,राजा, सरजीत सिंह, एडवोकेट शाकिर हुसैन, एडवोकेट महेश कुमार, प्रताप सिंह, गुरमेल सिंह, आदि सैकड़ो किसान उपस्थित हुए ।