अमृत महोत्सव जैसे आयोजनों से अमृत निकलेगा, गति मिलेगी, मति मिलेगी और रास्ता मिलेगा- पुष्कर सिंह धामी

इस खबर को सुनें

श्री पुष्कर सिंह धामी, मा0मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को ऋषिकुल आयुर्वेदिक कालेज के प्रेक्षागृह में स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव के अन्तर्गत आयोजित ’’हरिद्वार संवाद’’ कार्यक्रम में प्रतिभाग किया।
मा0 मुख्यमंत्री ने अमृत महोत्सव का जिक्र करते हुये कहा कि मा0 प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में आगामी मार्च,2022 तक अमृत महोत्सव के कार्यक्रमों के आयोजनों की योजना बनाई गयी है, जिसमें लगातार नये-नये विचारों की श्रंृखला सामने आ रही है। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजनों से अमृत निकलेगा, गति मिलेगी, मति मिलेगी तथा रास्ता मिलेगा।
श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि मा0 प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने हमारी संस्कृति के उत्थान के लिये जो प्रयास किये हैं, वे अतुलनीय हैं। केदारपुरी का जिक्र करते हुये उन्होंने कहा कि केदारपुरी में 400 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास हुआ है। केदारपुरी में आस्था पथ बन चुका है तथा चिकित्सालय व अतिथि गृह आदि बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि वहां दूसरे चरण के कार्य चल रहे हैं तथा तीसरे चरण के कार्यों का प्रारम्भ आगामी अप्रैल,2022 तक हो जायेगा। बद्रीनाथधाम का जिक्र करते हुये उन्होंने कहा कि बद्रीनाथ का मास्टर प्लान बन गया है, जिसके लिये 250 करोड़ रूपये की स्वीकृत हो चुके हैं तथा वहां भी जल्दी ही कार्य प्रारम्भ होगा।
मा0 मुख्यमंत्री ने काशी विश्वनाथ का उल्लेख करते हुये कहा कि काशी में काफी अन्तर आया है। पहले गंगा घाट से रास्ता नहीं मिलता था, आज वह संकरा रास्ता, हाईवे का रूप धारण कर चुका है। आज काशी दिव्य व भव्य बन चुकी है। उन्होंने कहा कि मैं 1998 के बाद विगत दिनों आयोध्या गया था। आज वहां निर्माण कार्य चल रहा है। बड़ी-बड़ी कम्पनियां निर्माण कार्य कर रही हैं। उन्होंने कहा कि आयोध्या दुनिया के नक्शे का प्रमुख स्थान होगा। उन्होंने कहा कि 21 जून को विश्व योग दिवस मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में हमारा देश हर क्षेत्र में प्रगति कर रहा है।
श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि जब हम राज्य स्थापना का 25वां वर्ष मनायेंगे, उस समय हमारा उत्तराखण्ड हर क्षेत्र में भारत के अग्रणी राज्यों में से एक होगा। उन्होंने कहा कि कार्यक्रमों की संख्या के हिसाब से नहीं बल्कि उसके सार्थक परिणाम सामने आने चाहिये। उन्होंने कहा कि रोज हम उत्तराखण्ड व उत्तराखण्ड की जनता के लिये फैसले ले रहे है तथा साथ ही उनका शासनादेश भी निकाल रहे हैं तथा उन योजनाओं को धरातल पर उतार रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगला दशक उत्तराखण्ड का दशक होगा। उन्होंने कहा कि यह हम सबकी सामूहिक यात्रा है।
इस अवसर पर जूनापीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी अवधेशानन्द गिरिजी महाराज ने कहा कि कुछ पल ऐतिहासिक होते हैं। उन्होंने कहा कि यह दशक उत्तराखण्ड का दशक है। उन्होंने कहा कि केदारनाथ, बद्रीनाथ तथा काशी का कायाकल्प हुआ है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से मा0 मुख्यमंत्री जी नेतृत्व कर रहे हैं, उससे सभी उत्साहित हैं।
इस मौके पर महन्त देवानन्द सरस्वती, श्री पदम जी, स्वामी चिदानन्द मुनि, महानिर्वाणी के श्रीमहन्त रविन्द्रपुरी आदि ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया।
कार्यक्रम का शुभारम्भ मंत्रोच्चारण के बीच दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया।
ऋषिकुल आयुर्वेदिक कालेज पहुंचने पर मा0 मुख्यमंत्री का भव्य स्वागत व अभिनन्दन किया गया।
इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री श्री यतीश्वरानन्द, स्वामी श्री परमानन्द गिरि, माता सन्तोषी, स्वामी हरिचेतनानन्द जी, स्वामी रूपेन्द्र प्रकाश, स्वामी विष्णुदास, महन्त शिवानन्द जी, स्वामी ज्योतिर्मयानन्द, साध्वी प्राची, श्री जगदीश लाल पाहवा, अध्यक्ष स्वागत समिति, डाॅ0 विशाल गर्ग महामंत्री, आयोजन समिति, डाॅ0 विनोद आर्य, श्री सुरेश सुयाल, श्री मोनू त्यागी, प्रो0 सुनील जोशी कुलपति आयुर्वेद विश्वविद्यालय, श्री मयंक चोपड़ा, प्रो0 वी0डी जोशी, पर्यावरणविद्, श्री अशोक बेरी, डाॅ0 महेश शर्मा, भाजपा जिला अध्यक्ष डाॅ0 जयपाल सिंह चैहान, महामंत्री श्री विकास तिवारी, जिलाधिकारी श्री विनय शंकर पाण्डेय, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डाॅ0 योगेन्द्र सिंह रावत, संयुक्त मजिस्ट्रेट श्री अंशुल सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट श्री अवधेश कुमार सिंह विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपति, सलाहकार, कुल सचिव, स्वयंसेवी संस्थाओं के पदाधिकारी आदि उपस्थित थे।
………………..