पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी गोपनीय तरीके से हरिद्वार पहुंचे, क्या करने आए ? जाने पूरी खबर

इस खबर को सुनें

*चन्नी मुख्यमंत्री बनने से पूर्व भी आए थे हरिद्वार*
हरिद्वार। गोपनीय तरीके से हरिद्वार पहुचे पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह‘‘ चन्नी‘‘ ने अपनी किसी खास कामना के लिए एक तांत्रिक कराई। सोमवार अहले सुबह श्री चन्नी हर की पौड़ी के पास स्थित अस्थि प्रवाह घाट पर आए थे। बताया जाता है कि पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी चंडीगढ़ के एक तांत्रिक के संपर्क में हैं। कहा जाता है कि मुख्यमंत्री बनने से एक हफ्ता पूर्व भी वह हरिद्वार इन्हीं तांत्रिक के साथ आए थे और गंगा जी का दुग्ध अभिषेक और पूजा करके गए थे। इस पूजा के पश्चात ही एक हफ्ते में अचानक से पंजाब के मुख्यमंत्री के रूप में वह सामने आए। सोमवार सुबह करीब 6बजे ही पंजाब के मुख्यमंत्री श्री वाल्मीकि मंदिर के सामने अपने द्वारा स्थापित शिवलिंग पर पूजा करने आए थे। पूजा से पूर्व श्री चन्नी ने गंगा में स्नान कर गंगा का दुग्ध अभिषेक किया। इसके पश्चात चंडीगढ़ से आए उनके तांत्रिक पंडित जी ने तंत्र पूजा करवाई। इस पूजा अनुष्ठान के पश्चात वह होकर वापस पंजाब चले गए। बताते चले कि अभी हाल में ही पंजाब गये प्रधानमंत्री की सुरक्षा में सेंध मामले में पंजाब के मुख्यमंत्री श्री चन्नी राजनीतिक तौर बहुत परेशान बताये जा रहे है। कहा जाता है कि उन्हें इस तांत्रिक पूजा का विशेष फायदा मिला और संभवतः सुप्रीम कोर्ट से काफी राहत मिली है, सुप्रीम कोर्ट में प्रधानमंत्री के पंजाब दौरे के दौरान कथित सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सोमवार को ही सुनवाई थी। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट की ओर से केंद्र और पंजाब राज्य की जांच को रोककर सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए नई समिति बनाई। सुप्रीम कोर्ट के इस निर्णय से मुख्यमंत्री चन्नी को राहत मिली। जानकारो का मानना है कि सुप्रीम कोर्ट की नई जांच समिति कहीं ना कहीं श्री चन्नी के लिए राहत की बात है। तांत्रिक पूजा के बाद श्री चन्नी ने दुध का दान भी किया।