रिफाइंड, आटा, सूजी, सरसों का तेल, मसाले, टॉफी के 28 सैंपल जांच में फेल

इस खबर को सुनें

ग्राहक सामान लेते समय गुणवत्ता और एक्सपायरी का ध्यान रखें

हरिद्वार। खाद्य सुरक्षा विभाग के छह दिवसीय अभियान के दौरान पिछले माह लिए गए सभी खाद्य पदार्थों के सैंपल की रिपोर्ट आ गई है। 42 सैंपल में से 28 सैंपल विभाग की जांच में फेल हो गए हैं। विभाग ने सभी कंपनियों को नोटिस जारी कर दोबारा जांच के लिए एक माह का समय दिया है। एक माह के बाद विभाग मामले में कार्रवाई करेगा। फेल सैंपल में रिफाइंड, आटा, सूजी, सरसों का तेल, मसाला, टाफी एवं मैदा आदि शामिल हैं।  खाद्य सुरक्षा विभाग ने 16 से 21 फरवरी के बीच विशेष चेकिग अभियान चलाया था। यह अभियान केवल खाद्य पदार्थों को तैयार करने वाली कंपनियों के लिए ही चलाया गया था। टीम ने इन छह दिनों में 22 कंपनियों पर छापे मारे थे। इस दौरान कंपनियों से 42 खाद्य पदार्थ के सैंपल टीम ने लिए। खाद्य सुरक्षा विभाग रुड़की के वरिष्ठ खाद्य सुरक्षा अधिकारी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि अभियान के तहत लिए गए सैंपल को प्रतिदिन विशेष वाहन से लैब भिजवाया गया था। प्राथमिकता के आधार पर उनकी जांच भी कराई गई। इसके चलते 15 खाद्य सैंपल की रिपोर्ट तो तभी आ गई थी, जबकि अन्य सैंपलों की रिपोर्ट अब आई है। कुल मिलाकर 42 में से 28 सैंपल मानकों पर खरे नहीं उतरे हैं, जबकि 14 खाद्य पदार्थों के सैंपल मानकों के अनुरूप हैं। सैंपल रुड़की, सलेमपुर, रामनगर, बहादराबाद, भगवानपुर, धनौरी एवं हरिद्वार आदि क्षेत्रों में स्थित कंपनियों से लिए गए थे। जिन कंपनियों के सैंपल फेल आए हैं, उनके संचालकों को नोटिस जारी कर एक माह का समय दिया गया है। वह इस दौरान मान्यता प्राप्त लैब में दोबारा खाद्य पदार्थों के सैंपल की जांच करा सकते हैं। एक माह बाद विभाग इस मामले में आगे की कार्रवाई करेगा। यदि सैंपल फिर से फेल आते हैं या फिर सैंपल की दोबारा जांच नहीं कराई जाती है तो विभाग ऐसे मामले में एडीएम कोर्ट में वाद दायर करेगा। होली को लेकर आज से चलेगा चेकिग अभियानः होली की पहचान रंगों के साथ-साथ स्वादिष्ट व्यंजन को लेकर भी है। व्यंजनों को तैयार करने वाले खाद्य पदार्थो में किसी प्रकार की मिलावट न हो, इसे लेकर जिलाधिकारी हरिद्वार के निर्देश पर खाद्य सुरक्षा विभाग सोमवार से चेकिग अभियान शुरू कर रहा है। खाद्य पदार्थ में यदि मिलावट की आशंका होगी तो उसका सैंपल जांच को भेजा जाएगा। खाद्य सुरक्षा अधिकारी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि व्यापक स्तर पर यह चेकिग अभियान चलेगा। क्षेत्रवासियों को भी सामान लेते समय उसकी एक्सपाइयरी तिथि एवं गुणवत्ता की जांच करनी चाहिए। यदि किसी खाद्य वस्तु में मिलावट की आशंका होती है तो इसकी जानकारी विभाग को दें।