भड़काऊ भाषण के मामले में आरोपियों की आवाज के नमूनों की जॉच होगी जांच ?

इस खबर को सुनें

चार मुकदमों में तीन की जांच पूरी,एक मे फाइनल रिपोर्ट, एक की जांच जारी

हरिद्वार: पिछले वर्ष नवंबर और दिसंबर में हरिद्वार में भड़काऊ भाषण देने पर दर्ज किए गए चार मुकदमों में से तीन की जांच पूरी कर ली गई है। इनमें से एक में पुलिस फाइनल रिपोर्ट भी लगा चुकी है, जबकि एक की जांच जारी है। प्रकरण में आरोपितों की आवाज की नमूने भी लिए गए हैं, जिसका मिलान वायरल वीडियो से कराया जाएगा।

हरिद्वार के कोतवाली प्रभारी राकेंद्र कठैत ने बताया कि आवाज के नमूने जल्द ही जांच के लिए भेजे जाएंगे। उन्होंने बताया कि सभी मामलों की जांच एसआइटी को सौंपी गई।

इनमें पहला मुकदमा उत्तर प्रदेश वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष जितेंद्र नारायण त्यागी (पहले का नाम वसीम रिजवी) के खिलाफ हरिद्वार प्रेस क्लब में विवादित पुस्तक ‘मोहम्मद’ के विमोचन के दौरान आपत्तिजनक भाषण के आरोप में दर्ज किया गया था।

इस मामले में देहरादून में भी एफआइआर दर्ज कर हरिद्वार स्थानांतरित की गई। प्रकरण में अदालत में चार्जशीट दाखिल की जा चुकी है। इसके अलावा उत्तरी हरिद्वार में आयोजित कार्यक्रम में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में गाजियाबाद स्थित डासना मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद, जितेंद्र नारायण त्यागी, संत धर्मदास व साध्वी अन्नपूर्णा के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की गई।

इस मामले की जांच जारी है, जबकि एक और मुकदमा धर्म विशेष की महिलाओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में स्वामी यति नरसिंहानंद के खिलाफ दर्ज किया गया। इन दोनों मामलों में गिरफ्तारी के बाद यति नरसिंहानंद को जमानत दे दी गई।

महिलाओं पर टिप्पणी के मामले में यति के खिलाफ चार्जशीट दाखिल हो चुकी है। वहीं जितेंद्र नारायण त्यागी जेल में हैं। हाईकोर्ट से भी उनकी जमानत खारिज हो चुकी है(GS)