सुरक्षा और भीड़ नियंत्रण एक बड़ी चुनौती- आयुक्त

इस खबर को सुनें

कावड़ मेला सकुशल संपन्न कराने हेतु बैठक

हरिद्वार:(सूचना) श्री सुशील कुमार, आयुक्त गढ़वाल मण्डल की अध्यक्षता में बुधवार को डामकोठी में कांवड़ मेला-2022 के सफल आयोजन हेतु सीमावर्ती जनपदों के जिलाधिकारियों एवं वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ एक बैठक आयोजित हुई।
बैठक में जिलाधिकारी श्री विनय शंकर पाण्डेय ने प्रस्तुतीकरण देते हुये आगामी 14 जुलाई से 27 जुलाई,2022 तक चलने वाले कांवड़ मेले के सम्बन्ध में विस्तृत प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि दो वर्षों से कोविड-19 के कारण कांवड़ यात्रा नहीं हो पा रही थी। उन्होंने वर्ष 2019 में हुई कांवड़ यात्रा के विभिन्न पहलुओं की जानकारी भी बैठक में साक्षा की तथा किस राज्य से तथा कितनी संख्या में यात्री यहां आते हैं, के सम्बन्ध में भी अवगत कराया। उन्होंने कांवड़ की ऊंचाई के सम्बन्ध में बताया कि कांवड़ की अधिक से अधिक ऊंचाई सात फीट होनी चाहिये, ताकि वह कांवड़, यात्रा में व्यवधान उत्पन्न न करे। उन्होंने बताया कि इस वर्ष कांवड़ियों की संख्या चार करोड़ के लगभग हो सकती है, जिनमें से अधिकतर युवा कांवड़िये होंगे, जिसको देखते हुये सारी व्यवस्थायें की जा रही हैं।
बैठक में सीमावर्ती जनपदों के अधिकारियों के साथ बार्डर में किस तरह की रणनीति अपनाई जाये कि कांवड़ यात्रा का सकुशल संचालन काफी अच्छे ढंग से हो सके, के सम्बन्ध में विभिन्न पहलुओं पर विस्तृत विचार-विमर्श हुआ, जिसमें सीमावर्ती जनपदों से आये हुये अधिकारियों ने अपने अनुभवों को साझा करते हुये कांवड़ यात्रा के सफल संचालन के लिये अपने महत्वपूर्ण सुझाव भी दिये।
श्री सुशील कुमार, आयुक्त गढ़वाल मण्डल ने बैठक में सीमावर्ती जनपदों के अधिकारियों से कहा कि जो भी कांवड़ यात्री आपके जनपद से हरिद्वार की ओर प्रस्थान करेंगे, तो उनकी एक सूची जरूर तैयार कर ली जाये तथा उसकी जानकारी सभी को आपस में दी जाये, जिससे आकस्मिकता के समय काफी मदद मिल सकती है। उन्होंने कहा कि सुरक्षा और भीड़ नियंत्रण एक बड़ी चुनौती है, इसलिये इस पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि आस्था के साथ-साथ अन्य पहलुओं का भी पूरा ध्यान रखा जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि दुकानों में कोई भी ऐसी चीज की बिक्री नहीं होनी चाहिये, जिसे हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है, ऐसी वस्तुआंे की बिक्री पर पूरी तरह से रोक होनी चाहिये।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक हरिद्वार डॉ0 योगेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि जो भी कांवड़िये यात्रा पर निकलें तो वे अपने साथ कोई न कोई पहचान पत्र अवश्य लेकर चलें तथा रोड साइड की जितनी भी दुकानें हैं, वे अपनी ओरेजनल आईडी जरूर रखें।
जिलाधिकारी हरिद्वार ने बैठक में कावंड़ यात्रा के दौरान प्रयोग किये जाने वाले जुगाड़ वाहनों का जिक्र करते हुये कहा कि इनसे यात्रा के दौरान काफी व्यवधान पैदा होता है। इस पर गढ़वाल मण्डलायुक्त ने कहा कि इस पर रोक होनी चाहिये। उन्होंने कहा कि जुगाड़ वाहनों का प्रयोग न किया जाये, के सम्बन्ध में व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये।
बैठक में सीमावर्ती जनपदों से लेकर हरिद्वार तक किस तरह का ट्रैफिक प्लान होगा, के सम्बन्ध में भी विस्तृत विचार-विमर्श हुआ।
बैठक में प्रतिभाग करने आये सीमावर्ती जनपदों के अधिकारियों ने आगामी कांवड़ के दौरान हर स्तर पर अपना पूरा सहयोग प्रदान करने का आश्वासन दिया।
डॉ0 रमेश पोखरियाल निशंक सांसद हरिद्वार ने भी अल्प समय के लिये बैठक में प्रतिभाग किया तथा आगामी कांवड़ यात्रा की सफलता के लिये शुभकामनायें दीं।
श्री सुशील कुमार आयुक्त गढ़वाल मण्डल का डामकोठी परिसर पहुंचने पर पुष्पगुच्छ, गंगाजलि भेंटकर भव्य स्वागत व अभिनन्दन किया गया।
इस अवसर पर श्री के0एस0 नगन्याल डीआईजी, डॉ0 राजेश कुमार जिलाधिकारी देहरादून, श्री चन्द्र भूषण सिंह जिलाधिकारी मुजफ्फरनगर, श्री विजय कुमार, जिलाधिकारी पौड़ी, श्री पूर्ण बोरा, सीडीओ बिजनौर, श्री विनीत जायसवाल वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुजफ्फरनगर, श्री यशवन्त सिंह एसएसपी पौड़ी, श्री नवनीत सिंह एसएसपी टिहरी गढ़वाल, श्री वीर सिंह बुदियाल एडीएम(राजस्व) हरिद्वार, श्री पीएल शाह एडीएम(प्रशासन)हरिद्वार,श्री रामजी शरण शर्मा, एडीएम टिहरी, श्री नरेन्द्र बहादुर सिंह एडीएम(ई)मुजफ्फरनगर, श्री राज सिंह, एडीएम(राजस्व) मुजफ्फरनगर, श्री ए0के0 सिंह सिटी मजिस्ट्रेट हरिद्वार, श्री पूरन सिंह राणा एसडीएम हरिद्वार, श्री डी0एस0नेगी एसडीएम नरेन्द्र नगर, डॉ0 प्रवीन रंजन सिंह एसपी सिटी बिजनौर, श्री राजेश कुमार एसपी सिटी सहारनपुर, श्री अक्षय कौण्डे एसपी ट्रैफिक देहरादून, श्री हिमांशु कुमार एसपी(क्राइम)हरिद्वार, श्री कुलदीप सिंह एसपी ट्रैफिक मुजफ्फरनगर, श्री प्रमेन्द्र डोभाल एसपी देहात हरिद्वार, श्री स्वतंत्र कुमार सिंह एसपी सिटी हरिद्वार, श्री वैभव सैनी सीओ पौड़ी, सुश्री निहारिका सेमवाल सीओ आपरेशन हरिद्वार, श्री सुरेश तोमर अधिशासी अभियन्ता लोक निर्माण सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।