जिलाधिकारी ने उड़नदस्ता टीम के कार्यों की समीक्षा कर दिए आवश्यक निर्देश

जिलाधिकारी ने कोरोना महामारी के दौरान निजी चिकित्सालयों में इलाज के लिए अस्पतालों की मनमानी रोकने में तथा बीमारों, परिजनों को नियमानुसार उपचार और सुविधाआयें उपलब्ध कराने के लिए बनाये गये उड़न दस्ता टीम के आधिकारियों की बैठक ली। उन्होंने कोविड के कारण होने वाली मृत्यु, मृत्यु के स्थान हाॅस्पिटल व होम आइसोलेशन की रिपोर्टिंग के लिए बनाये गये नोडल अधिकारी मो. नासिर को प्रत्येक चिकित्सालय व प्रति दिन की स्पष्ट जानकारी चिकित्सालयों, नगर निकायों, डीपीआरओ से निर्धाारित और स्पष्ट प्रारूप् पर प्राप्त कर उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। साथ ही डीएम ने कोविड के कारण जिनकी मृत्यु हुई ऐसे मृतकों के परिवारो, अनाथ हुए बच्चों आदि का सर्वे कर ऐसे बच्चों के लिए गोद दिये जाने की कानूनी कार्रवाई किये जाने, विधवा महिलाओं की पेंशन प्रकिया चालू किये जाने तथा महिला स्वंय सहायता समूहों के माध्यम से ऐसी महिलाओं को प्रशिक्षित कर सबल बनाने के लिए निर्देश भी सम्बंधित विभागीय अधिकारियों को दिये। उन्होंने क्षेत्र के एसडीएम से समन्वय कर जिला सेवा योजन अधिकारी को कोरोना अवधि के में बेरोजगार हुए 18 वर्ष आयु के युवाओं का सर्वे कर इन युवाओं को योग्यता के आधार पर प्रक्षिक्षण दिलाकर स्वरोजगार व आजिविका के लिए निर्देश दिये। उन्होंनें वृद्ध, दिव्यांग, ट्रांसजेंडर, कुपोषित मातायें,स्लम एरिया व आदिवासी क्षेत्र के लोगों को प्राथमिकता के आधार पर विशेष अभियान व रणनीति बनाकर टीकाकरण कराये जाने के निर्देश स्वास्थ्य विभाग को दिये। किसी भ्राॅति के कारण टीकाकरण न कराने वाले वर्ग को धार्मिक, सामाजिक, जन प्रतिनिधियों की सहायकता से टीकाकरण के लिए प्रेरित किया जाये।