महिला की आत्महत्या का मामला: सुसाइड नोट के आधार पर मृतका के पुत्र ने तीन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया, पुलिस जांच में जुटी

इस खबर को सुनें

नगर कोतवाली क्षेत्रान्गर्त विगत एक सप्ताह पूर्व होटल में हरियाणा की शिक्षिका के फांसी लगाकर आत्महत्या करने के मामले में काॅलेज के ही तीन शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार मामले में शिक्षिका के बेटे की शिकायत पर आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में अंबाला पॉलिटेक्निक कॉलेज के एक एचओडी और दो लेक्चरर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। बताते चले कि करीब एक सप्ताह पूर्व कोतवाली नगर क्षेत्रान्गर्त उत्तरी हरिद्वार के एक होटल के कमरे में सविता निवासी ग्रेटर कैलाश कॉलोनी अंबाला का शव फांसी के फंदे पर लटका मिला था। सविता अंबाला के पॉलिटेक्निक महिला कालेज में प्रवक्ता के पद पर तैनात थीं। महिला के पास से मिले सुसाइड नोट में उनके सहकर्मियों पर उत्पीड़न का आरोप था। इस मामले में मृतका के  बेटे अर्पण निवासी गांव आसौदा टोडरान थाना खास जिला झज्जर हरियाणा ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उनकी माता सविता अंबाला शहर के कल्पना चावला गवर्नमेंट पालिटेक्निक महिला में वर्ष 2009 से प्रवक्ता लाइब्रेरी एंड इनफारमेंशन साइंस के पद पर तैनात थीं। इसी संस्था में कार्यरत कृष्णा रानी भोरिया लेक्चरर इंगलिश, डॉ. बिंदु आनंद एचओडी लाईब्रेरी एंड इनफोरमेशन साइंस, उषा रानी लेक्चरर लाइब्रेरी एंड इनफोरमेंशन साइंस भी कार्यरत हैं। ये सभी वर्ष 2017 से उनकी माता का उत्पीड़न करते आ रहे थे। मां ने इस मामले के सम्बन्ध में उसे, मामा, मामी और बहन अर्पिता को भी करीब डेढ साल पहले बताया था। तीनों महिला सहकर्मियों को समझाने के प्रयास करने के बाद भी वह नहीं मानी। एक अक्तूबर को घर से हरिद्वार घूमने की बात कहकर उनकी माता सविता आई थी। इसके बाद पुलिस से चार अक्तूबर को उनके सुसाइड की जानकारी मिली। इसके तुरंत बाद अर्पण अपने मामा कुलदीप, दिनेश व अनिल के साथ हरिद्वार आए और पोस्टमार्टम के बाद अंतिम संस्कार कराया। नगर कोतवाली प्रभारी राकेंद्र सिंह कठैत के अनुसार मृतका के बेटे की शिकायत पर मामले में कृष्णा रानी भोरिया, डॉ. बिंदु आनंद, उषा रानी के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।