अभी तक पुलिस यह पता नहीं लगा सकी कि महिला ने फांसी लगाकर आत्महत्या क्यों की?

इस खबर को सुनें

*महिला अपने मायके रहकर अपनी माता की सेवा कर रही थी, महिला की कोई संतान नहीं थी, कोई सुसाइड नोट भी नहीं मिला*


हरिद्वार। नगर कोतवाली क्षेत्रान्गर्त भीमगोड़ा क्षेत्र में मायके में रह रही महिला ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या की वजह साफ नहीं हो सकी है। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुची पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजन के सुपुर्द कर दिया। पुलिस के अनुसार खड़खड़ी चौकी क्षेत्र की हिलबाईपास निवासी श्रुति गुप्ता उम्र 21 वर्ष की शादी दो वर्ष पूर्व शिवम गुप्ता निवासी मोतीचूर फाटक के पास रायवाला जिला देहरादून से हुई थी। करीब ढाई माह से महिला अपने मायके में ही रहकर अपनी मां की सेवा कर रही थी। शुक्रवार की सुबह वह रोजाना की तरह नहाने के लिए गई थी। लेकिन काफी देर गुजरने के बाद भी जब वह बाहर नहीं आई तब उसकी मां ने बेटे को इस बात की जानकारी दी। फिर बेटे ने दरवाजा खटखटाया, लेकिन अंदर से कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई। फिर दरवाजे की कुंडी तोड़कर अंदर प्रवेश करने पर सामने आया कि महिला का शव दुपट्टे के फंदे के सहारे झूल रहा था। परिजन आनन फानन में उसे जिला अस्पताल ले गए, जहां उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद भी परिजन उसे बंगाली अस्पताल कनखल ले गए, जहां भी चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। सूचना मिलने पर मौके पर पहुचे खड़खड़ी चौकी प्रभारी विजेंद्र कुमांई ने पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। चौकी प्रभारी के अनुसार मृतका की कोई संतान नहीं है। उसने आत्महत्या करने की वजह भी साफ नहीं हो सकी है। मायके पक्ष ने पूछताछ में किसी तरह की वजह से इंकार किया है। न ही कोई सुसाइड नोट बरामद हुआ है। बताया कि पोस्टमार्टम के बाद शव परिजन को सौंप दिया गया है।