राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग के उपाध्यक्ष की बैठक से नाराज श्रमिक नेता निकले बाहर और की नारेबाजी

राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग के उपाध्यक्ष बब्बन रावत ने नगर निगम सभागार में कर्मचारियों की समस्या को लेकर बैठक की। इस बीच कर्मचारी यूनियन के नेताओं ने नाराज होकर बैठक का बहिष्कार कर दिया। कर्मचारी नेता नारेबाजी कर विरोध जताते हुए अपने कार्यालय में आकर बैठ गए। गुरुवार को राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग के उपाध्यक्ष को सफाई कर्मचारियों की समस्याओं को लेकर सफाई मजदूरों के ट्रेड यूनियन के नेताओं के साथ वार्ता के लिए नगर निगम सभागार में बुलाया गया। सफाई कर्मचारियों की समस्याओं का ज्ञापन मोर्चा के नेताओं ने उन्हें दिया। कर्मचारी नेताओं का कहना है कि ज्ञापन की अनदेखी कर अधिकारियों से गुपचुप वार्ता की जा रही थी। जिसके बाद यूनियन के प्रतिनिधियों ने नाराजगी व्यक्त करते हुए बैठक का बहिष्कार कर दिया। नगर निगम कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के संयोजक सुरेंद्र तेश्वर व सह संयोजक राजेंद्र श्रमिक ने कहा कि आयोग के उपाध्यक्ष सफाई मजदूर संगठनों के नेता सफाई मजदूरों की महत्वपूर्ण समस्याओं पर चर्चा करना चाहते थे। लेकिन उन्होंने इस और कोई ध्यान नहीं देकर कुंभ मेले के ठेकेदारों की बात करने लगे। इस पर सभी यूनियन के नेताओं ने नाराजगी व्यक्त करते हुए सभी सभागार से उठकर बाहर आ गए। उन्हें कर्मचारियों की समस्याओं पर ध्यान देना चाहिए था। लेकिन ऐसा नहीं किया गया। इस दौरान आत्माराम बेनीवाल, अशोक तेश्वर, सुनील राजौर, प्रवीण तेश्वर, नीरज बागड़ी, अशोक मामा, शिवकुमार, सलेक चंद, अशोक हवलदार, राजेश खन्ना, बंटी चंचल, लक्ष्मीचंद, सुदर्शन, सुनील बेदी, राकेश कुमार, अजय कुमार आदि उपस्थित रहे।