मासूम के साथ दरिंदगी के विरोध में विभिन्न संगठनों ने प्रदर्शन कर भेजा ज्ञापन


*पीडि़त परिवार को एक करोड़ मुआवजा देने की मांग*

बामसेफ के आफ सूट संगठन, राष्ट्रीय मूलनिवासी अत्यंत पिछड़ी अनुसूचित जाति जागृति मोर्चा, बहुजन क्रांति मोर्चा, वाल्मीकि महासंघ, अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस स्वतंत्र ट्रेड यूनियन, नगर निगम कर्मचारी संयुक्त मोर्चा ने दिल्ली में वाल्मीकि समाज की नौ वर्षीय मासूम के साथ हुई दरिंदगी के विरोध में नगर निगम से सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय तक लेकर रैली निकाली। आरोपियों पर सख्त कार्रवाई और पीडि़त परिवार को एक करोड़ का मुआवजा, सरकारी भवन, एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की। राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा। इस दौरान चमार वाल्मीकि महासंघ के संस्थापक अध्यक्ष भंवर सिंह ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि देश की राजधानी दिल्ली में वाल्मीकि समाज की 9 वर्षीय मासूम बेटी के साथ मंदिर के पुजारी के साथ मिलकर दरिंदों ने सामूहिक बलात्कार करने के बाद हत्या कर उसका जलाकर हाथरस में हुई वाल्मिीकि समाज की बेटी के साथ हुए अपराध की पुनरावृति की है। जिसकी चमार वाल्मीकि महासंघ बामसेफ के सभी ऑफसूट संगठन घोर निंदा करते हैं और महामहिम राष्ट्रपति से मांग करते हैं कि इस गंभीर घटना के दोषियों को फास्ट ट्रैक कोर्ट के माध्यम से कड़ी से कड़ी सजा दिलायी जाए एवं मासूम के पीडि़त परिवार को एक करोड़ रुपए मुआवजा, आवास एवं एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए। राष्ट्रीय मूलनिवासी अत्यंत पिछड़ी अनुसूचित जाति जागृति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र श्रमिक ने कहा कि देश में वाल्मीकि समाज की मासूम बेटियों के साथ लगातार गैंगरेप और हत्या जैसी घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है। देश की राजधानी दिल्ली 9 वर्षीय मासूम के साथ रेप कर हत्या कर दी गयी। वाल्मिीकि समाज की बेटी के साथ हुई अत्यन्त गंभीर घटना पर देश का कोई भी जिम्मेदार व्यक्ति बोलने को तैयार नहीं है। सभी ने चुप्पी साधी हुई है। जिससे अपराधियों को संरक्षण मिल रहा है। रैली निकालने वालों में भान पाल सिंह रवि, संजय मूलनिवासी, सुरेंद्र तेशवर, अजय कुमार, डॉ. प्रशांत राठोर, सुनील राजौर, वीरेंद्र श्रमिक, बंटी चंचल, सचिन बेदी, ललिता रानी, तारावती, काजल, सुमनलता, सुमित्रा देवी, मालती देवी, आरती, सीपी सिंह, मोदी मल, आत्माराम बेनीवाल, सुरेंद्र पास्टर, दुलारे पास्टर, सुभाष, राजू खेरवाल, संजीव बाबा, संजय पीवाल, गोवर्धन, अशोक छाछर ,नानक चंद, सुभाष खेरवाल, डॉ राजकुमार, रफल पाल कटारिया, जयपाल विजयपाल मुकेश श्रमिक, किशोर कुमार, सुनीला, राकेश गौदियाल, अजय कुमार, सुलेख चंद, राजेश कुमार, गोपाल मोती, जसवंत, शिवकुमार, सुशील वाल्मीकि, दयाराम, राजेश छाछर, धर्मपाल, राजेश खन्ना, आनंद आदि शामिल रहे।