जिला महिला अस्पताल मे हंगामा : आशा कार्यकर्ता और वार्ड आया का विवाद-मारपीट में तब्दील, धरना- प्रदर्शन के बाद मामला कोतवाली पहुंचा

जिला महिला अस्पताल में उपचार को आई आशा कार्यकर्ता और वार्ड आया के बीच विवाद के बाद दोनों के बीच मारपीट हो गई। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर मारपीट का आरोप लगाते हुए नगर कोतवाली शिकायत दी है। उधर आशा कार्यकर्ता के साथ मारपीट की सूचना मिलते ही तमाम आशा कार्यकर्ताओं ने कोतवाली में हंगामा कर धरना दिया। कोतवाली पुलिस के अनुसार शुक्रवार को आशा कार्यकर्ता शीला चैहान खुद का उपचार करवाने अस्पताल गई थी। उस दौरान वार्ड आया पूनम ड्यूटी में तैनात थी। तभी दोनों के बीच विवाद हो गया। आशा कार्यकर्ता का आरोप है कि चिकित्सक के कक्ष के बाहर एक गर्भवती महिला भी बैठी हुई थी, जो उपचार न मिलने से कराह रही थी। ओपीडी में बैठे डॉक्टर ने जब मरीज महिला को उपचार के लिए अपने कमरे में बुलाया तो डॉक्टर के गेट के बाहर ड्यूटी पर तैनात एक महिला स्वास्थ्यकर्मी गर्भवती के साथ अभद्रता करने लगी। आरोप है कि आशा कार्यकर्ता के साथ मारपीट की गई। महिला का आरोप है कि उसके गले को दबाया गया। उधर वार्ड आया पूनम ने आरोप लगाया कि आशा कार्यकर्ता ने अभद्रता कर उसके साथ मारपीट की। दोनों ने मेडिकल कराने के बाद पुलिस में शिकायत कर दी है। उधर आशा कार्यकर्ता के साथ मारपीट की सूचना मिलते ही आशा कार्यकर्ताओं ने हंगामा शुरू कर दिया। आशा कार्यकर्ता अस्पताल के बाहर धरने पर बैठ गए। कोतवाली में जाकर महिलाओं ने हंगामा काटा और महिला स्वास्थ्यकर्मी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। धरने में बैठने वाली आशा कार्यर्ताओं में सुमन चैहान, सुदेश उपाध्याय, बबली सैनी, सविता सोदाई, संगीता गोस्वामी, हेमलता रजोरिया, परणीव, नीलम, डोली, वती, लक्ष्मी, रेखा लोधी, राजरानी, नीजर, दीपा शामिल रही। उधर कोतवाली प्रभारी अमरजीत सिंह ने बताया कि दोनों ओर से शिकायत मिली है।