महामहिम कल पहुंचेंगे तीर्थ नगरी, होंगे दीक्षांत समारोह में शामिल


*पतंजलि विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में बांटेगे उपाधियां,सुरक्षा के खास इंतजामात*

महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद रविवार आज दो दिवसीय दौरे के पहले दिन तीर्थनगरी पहुॅच रहे है। महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पतंजलि विश्वविद्यालय के 28 नवंबर को आयोजित प्रथम दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित होंगे। महामहिम के दौरे को देखते हुए शासन-प्रशासन की ओर से सभी तैयारियां पूरी की जा चुकी है। गढ़वाल मण्डलायुक्त इस सम्बन्ध में अधिनस्थों को जरूरी निर्देश दे चुके है। दीक्षांत समारोह के सम्बन्ध में पतंजलि विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति विद्यार्थियों को उपाधि और स्वर्ण पदक प्रदान करेंगे। आचार्य बालकृष्ण के अनुसार दीक्षांत कार्यक्रम में प्रदेश के राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल(रिटायर) गुरमीत सिंह, केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, उत्तराखंड के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धनसिंह रावत आदि विशिष्ट गणमान्य लोग भी उपस्थित रहेंगे। दीक्षांत समारोह की तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। उधर, आयुक्त गढ़वाल रविनाथ रमन ने व्यस्थाओं को लेकर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक सी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति का भ्रमण कार्यक्रम तीनों जिलों-हरिद्वार, देहरादून तथा पौड़ी में हैं। उन्होंने कहा कि तीनों जिलों के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों का आपसी तालमेल बहुत अच्छा होना चाहिये तथा सभी अधिकारी समग्र रूप से मिल-जुलकर कार्य करना सुनिश्चित करें। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे हेलीपैड के साथ-साथ सड़कों की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दें। उन्होंने कहा कि अधिकारीगणों की जहां-जहां ड्यूटी लगी है, उससे अच्छी तरह परिचित हो जायें। उन्होंने कहा कि फ्लीट के लिये गाड़ियां पर्याप्त मात्रा में रखें। उनकी अच्छी तरह स्क्रीनिंग कर लें। जानकारी के अनुसार राष्ट्रपति 28 नवंबर को पतंजलि में दीक्षांत समारोह के बाद ऋषिकेश परमार्थ निकेतन जाएंगे। रात्रि विश्राम के बाद वह 29 नवंबर की सुबह शांतिकुंज पहुंचेंगे। गढ़वाल मण्डलायुक्त रविनाथ रमन तीनों जनपदों के पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक को सम्बोधित करते हुये कहा कि महामहिम राष्ट्रपति, भारत गणराज्य का भ्रमण कार्यक्रम तीनों जिलों-हरिद्वार, देहरादून तथा पौड़ी में हैं। उन्होंने कहा कि तीनों जिलों के पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों का आपसी तालमेल बहुत अच्छा होना चाहिये तथा सभी अधिकारी समग्र रूप से मिल-जुलकर कार्य करना सुनिश्चित करें। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे हेलीपैड के साथ-साथ सड़कों की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दें। उन्होंने कहा कि अधिकारीगणों की जहां-जहां ड्यूटी लगी है, उससे अच्छी तरह परिचित हो जायें। उन्होंने कहा कि फ्लीट के लिये गाड़ियां पर्याप्त मात्रा मंें हैं तथा उनकी अच्छी तरह स्क्रीनिंग कर लें। आई0जी0, इंटलीजेंस संजय गुंज्याल ने कहा कि महामहिम के भ्रमण के दौरान सारी जिम्मेदारी जिले की है। उन्होंने कहा कि तीनों जिलों का कोआर्डिनेशन व आपसी संवाद बहुत जरूरी है। सुरक्षा का हवाला देते हुये आई0जी0 इंटलीजेंस ने कहा कि सभी को संवेदनशील रहना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि जिसकी ड्यूटी जहां पर लगाई गयी है, वह उसे अच्छी तरह संचालित करें। बैठक में आईजी लॉ एण्ड ऑर्डर वी0 मुरूगेशन, जिलाधिकारी देहरादून डॉ0 आर0 राजेश कुमार,पौड़ी जिलाधिकारी डॉ0 विजय कुमार जोगदण्डे जिलाधिकारी हरिद्वार विनय शंकर पाण्डेय, डीआईजी हरिद्वार डॉ योगेन्द्र सिंह रावत एवं पौड़ी के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्रीमती पी0 रेणुका देवी, ने अधिकारियों से कहा कि जहां भी आपकी ड्यूटी लगी है, उसका पूरा होमवर्क करें। वक्ताओं ने महामहिम राष्ट्रपति भारत गणराज्य के, पतंजलि विश्वविद्यालय में, आयोजित कार्यक्रमों की व्यवस्थाओं आदि पर विस्तृत प्रकाश डाला। इस दौरान तीनों जनपदों के पुलिस व प्रशासन के सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित थे।