नकली नोट बनाने वाले दो आरोपी पुलिस ने प्रिंटर,स्कैनर सहित दबोचे

*सो-सो रुपए की शक्ल के कुल 50000 बरामद*

हरिद्वार । थाना खानपुर क्षेत्र से पुलिस ने 50 हजार की जाली करेंसी के साथ दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों कि निशानदेही पर नकली नोट बनाने का सामान भी पुलिस ने बरामद किया है। दोनों आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने सम्बन्धित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

एसपी देहात प्रमेंद्र सिंह डोभाल के अनुसार पुलिस टीम को पिछले काफी समय से सूचना मिल रही थी कि हरिद्वार जनपद के सीमावर्ती क्षेत्रों में नकली नोटों का कारोबार किया जा रहा है। इसके साथ ही नकली नोटों के कारोबारियों के तार हरिद्वार क्षेत्र से भी जुड़े हो सकते हैं। इसको लेकर एसएसपी हरिद्वार के निर्देश पर सीओ लक्सर के नेतृत्व में एक पुलिस टीम का गठन किया गया। पुलिस टीम द्वारा इस संबंध में विभिन्न स्तर पर जानकारियां जुटाई गई। इसी बीच बृहस्पतिवार को यूपी बार्डर पर चेकिंग के दौरान पुलिस को एक क्विड कार आती हुई दिखाई दी, जिसे रोककर उन्होंने चैकिंग की तो उसमे दो युवक कुर्बान उर्फ लालू व मनोज निवासी सलेमपुर बैठे मिले। तलाशी के दौरान दोनों युवकों के पास से 100-100 रुपए की शक्ल में कुल 50 हजार रूपए बरामद किए गए। पुलिस के अनुसार बरामद किए गए नोट जांच में नकली पाए गए।

पूछ प्रिंटर्स चैनल enterr10 चैनल सहित कवच प्रिंटर ताछ में आरोपी कुर्बान ने बताया कि उसने अपने घर सलेमपुर में प्रिंटर/स्कैनर मशीन लगाई हुई है और जब भी उसे मौका मिलता है, वह चुपचाप स्केनर मशीन से हुबहू नकली नोट निकाल लेता है तथा मार्केट में उक्त नकली नोटों को वह अपने दोस्त मनोज के माध्यम से चलाता है, जो झिंझाना शामली का रहने वाला है और इस कारोबार में उन्हें अच्छा खासा मुनाफा हो जाता है, जिसे वह आपस में बांट लेते हैं। पकड़े गए अभियुक्तों ने पूर्व में कई नोट हरिद्वार, बिजनौर, मुजफ्फरनगर व सहारनपुर आदि के ग्रामीण क्षेत्रों खरीद करते हुए बदले भी हैं।पुलिस टीम ने कुर्बान की निशानदेही पर उसके घर की तलाशी ली, तो वहां से नकली नोट छापने का पूरा समान तथा प्रिन्टर/मशीन भी बरामद किया। पुलिस अब अभियुक्तों की बताई जगह की जांच भी कर रही है जहा कहा ये नोट चलाए गए थे। साथ ही पुलिस अभियुक्तों का आपराधिक इतिहास भी खंगाल रही है।

पुलिस टीम में खानपुर थानाध्यक्ष संजीव थपलियाल, एसआई/चौकी इंचार्ज गोवर्धन पुर नवीन चौहान, एसआई विकास रावत, जोहर सिंह व सिपाही अरविंद रावत, सुधीर कुमार, कुलदीप व होमगार्ड आनंदपाल शामिल रहे।