धर्म स्थल के नाम पर फर्जी वाड़ा करने वाला आरोपी गिरफ्तार, निजी मकान को फर्जी वसीयत बनाकर मस्जिद बता रहा था

निजी मकान को फर्जी वसीयत तैयार करके मस्जिद बताकर फर्जीवाड़ा करने वाले आरोपी को कोतवाली ज्वालापुर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी को संबधित न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया गया है। ज्वालापुर पुलिस के अनुसार जावेद आलम निवासी मोहल्ला कैथवाड़ा ज्वालापुर ने जनवरी 2021 में अब्दुल हफीज पुत्र इब्राहिम निवासी खानआलमपुरा सहारनपुर और उसके पुत्र मुस्तफा उर्फ मुन्ना, मुज्तबा उर्फ हीरो के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। आरोप लगाया था कि अब्दुल हफीज ने उनके मकान को मस्जिद बताकर फर्जी वसीयत तैयार की। जिसके बाद रजिस्ट्रेशन कराने के लिए उत्तराखंड वक्फ बोर्ड में असल तौर पर उसका इस्तेमाल किया। जबकि उत्तराखंड वक्फ बोर्ड के इंस्पेक्टर ने मौके का निरीक्षण किया तो भवन रिहायशी मकान मिला। यहां मस्जिद या फिर इससे जुड़ा कोई दस्तावेज नहीं पाया गया। मामले के जांच अधिकारी दीपक चैधरी ने सहारनपुर जा कर वसीयत की जांच की तो सामने आया कि नोटरी से लेकर वसीयत टाइप करने वाले कोई भी व्यक्ति ज्वालापुर में नहीं हैं। सामने आया कि अब्दुल हफीज ने फर्जी वसीयत तैयार कर मस्जिद के नाम पर फर्जीवाड़ा किया है। इसके बाद से पुलिस आरोपी की तलाश में लगातार सहारनपुर दबिश दे रही थी। पर आरोपी फरार चल रहा था। बुधवार को ज्वालापुर पुलिस ने आरोपी गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने आरोपी को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया। आरोपी अब्दुल हफीज के दोनों बेटों के खिलाफ सिडकुल थाने में भी वर्ष 2020 में फर्जीवाड़े का मुकदमा दर्ज था। आरोप था कि तीनों ने मिलकर मस्जिद के नाम पर फर्जी रसीद काटते हुए चंदा वसूल किया था। मामले में जांच के बाद पुलिस ने आरोपी के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी थी। उधर, ज्वालापुर कोतवाली प्रभारी सीसी नैथानी ने बताया कि अन्य फरार आरोपियों की तलाश में भी दबिश दी जा रही है।