सरस्वती विद्या मंदिर इण्टर कॉलेज में परिवार प्रबोधन कार्यक्रम का तृतीय संस्कृण सम्पन्न

सरस्वती विद्या मंदिर इण्टर कॉलेज मायापुर,हरिद्वार में परिवार प्रबोधन के कार्यक्रम का तृतीय संस्कृण सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम विद्यालय के कक्षा 10 और कक्षा 11 के भैया बहिनों के अभिभावकों के साथ कार्यक्रम का शुभारम्भ हरिद्वार विभाग के विभाग प्रचार श्री चिरंजीव जी, मण्डल कार्यवाह श्री अर्पित जी, विद्या भारती के प्रदेश निरीक्षक डा0 विजयपाल सिंह जी और विद्यालय के प्रभारी प्रधानाचार्य श्री अजय सिंह जी ने माँ सरस्वती के सम्मुख दीप प्रज्जवलित करके प्रारंभ किया । उसके बाद विद्यालय के भैया बहनों ने गणेश वन्दना कर कार्यक्रम की शुरूआत की। इसके उपरांत कार्यक्रम में आए अभिभावको ने अपना परिचय दिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता विद्यालय के अभिभावक श्री बाल कृष्ण शास्त्री जी ने की। परिचय के पश्चात श्री चिरंजीव जी ने कार्यक्रम में उपस्थित अभिभावकों को संबोधित करते हुए संयुक्त परिवार के महत्व को समझाया। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय मे परिवार बहुत छोटे-छोटे होते जा रहे है। उन्होंने बताया कि एक बालक का सबसे पहला गुरु उसकी माता होती है जो बालक के अंदर अपने परिवार के प्रति और समाज के प्रति भाव जागरूक करती है और जब बालक के अंदर ऐसे भाव उत्पन्न होते है तो वह अपने परिवार के लिए और समाज के लिए कुछ कर सकने के लिए सक्षम हो जाता है। एक विद्यार्थी के निर्माण में भाषा,भूषा,भजन,भ्रमण,भवन और भोजन का महत्वपूर्ण योगदान होता है। हम सभी सनातन संस्कृति को मानने वाले है। इसके बाद प्रदेश निरीक्षक डॉ विजयपाल सिंह जी ने कहा कि विद्या भारती केवल शिक्षण देने का कार्य ही नही करती अपितु देश की संस्कृति के संरक्षण का कार्य भी करती है और ऐसा वह अपने विद्यालय के बालको को शिक्षित करके करती है। कार्यक्रम अध्यक्ष श्री बाल कृष्ण शास्त्री ने बताया कि इस समय पूरे देश भर में विद्या भारती के द्वारा परिवार प्रबोधन का कार्यक्रम चलाया जा रहा है।आज के कार्यक्रम के लिए उन्होंने सभी को बधाई दी। श्री अजय सिंह ने उपस्थित अभिभावकों का पूरे विद्यालय परिवार की ओर से आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में शैलेन्द्र रतूड़ी ,कृष्ण गोपाल रतूड़ी ,बुद्धि सिंह ,मनीष धीमान ,विपिन जी,अम्बरीष जी,सोनी जी और गीता जी उपस्थित रही।