पर्व: हरिद्वार में आयोजित हरेला महोत्सव से गूंजी ‘वृक्ष दिवस’ की हुंकार

Listen to this article

हरिद्वार: 1600 किलोमीटर की पदयात्रा कर समाज को पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरूक करते हुए, ग्रीनमैन के नाम से विख्यात विजयपाल बघेल प्रतिपर्व रूपी हरेला दिवस को “वृक्ष दिवस” के रूप में घोषित करने की मुहिम को आगे बढ़ाते हुए आज सरस्वती विद्या मंदिर में युवा साधु समाज एवं विद्यार्थियों के साथ हरेला पर्व के शुभारंभ में आयोजित वृक्ष दिवस समारोह में शामिल हुए। मुख्यवक्ता के रूप में पर्यावरण की पद्म भूषण डा अनिल जोशी जी के कहा कि मैं संत समाज से अपील करता हूं कि वह समाज की दिशा और दशा सवारते हैं उनके द्वारा पर्यावरण संरक्षण और पेड़ लगाने का संदेश समाज के लिए बहुत कारगर साबित हो सकता है। उन्होंने हर बच्चे को ग्रीनमैन बघेल और सुंदर लाल बहुगुणा बनने का आवाहन किया, जो पेड़ को लगाए ही नहीं सींचे भी। जोशी ने इस बात पर जोर दिया कि पेड़ के साथ पानी का संबंध अटूट है इसलिए जहां भी पेड़ लगाए वहां पानी का इंतजाम जरूर होना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रकृति और भगवान अलग नहीं है हमने उनको अलग कर दिया शिव हिमालय खंड में बसे हैं और विष्णु सागर में। जब हम प्रकृति से दूरी बनाएंगे तो प्रभु भी हमसे दूरी बनेंगे इस बार की भीषण गर्मी इस बात की द्योतक है। रानीपुर विधायक आदेश चौहान ने वृक्षारोपण के साथ-साथ सभी को पर्यावरण के प्रति जागरूक रहने के लिए आवाहन किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवाहन एक पेड़ अपने नाम और एक पेड़ मां के नाम लगाने के लिए भी उन्होंने सबसे अपील की।

ग्रीनमैन बघेल ने कहा उत्तराखंड राज्य में ग्रीन कवर तो बहुत है फिर भी पेड़ बचाने की और पेड़ लगाने के प्रेरणा उत्तराखंड ही देता है । उन्होंने कहा कि पूरे भारत में प्रति व्यक्ति पेड़ों की संख्या केवल 28 है जो की 500 होनी चाहिए। इसलिए वृक्ष दिवस की यह मुहिम जन-जन तक पहुंचना अनिवार्य है। अगर उत्तराखंड से ही चिपको आंदोलन जैसे मुहिम ना हुए होते तो आज हम भी ऑक्सीजन के अभाव में विभिन्न बीमारियों से ग्रसित होते। उन्होंने कहा कि हरेला पर्व की शुरुआत के दिन सभी स्कूलों कॉलेजों में यह पौधा लगाने का आवाहन किया जा रहा है। एक पेड़ लगाना है और एक बचाना है, नहीं तो सांसे कम होती जाएंगी।
युवा संत समाज के रविदेव शास्त्री ने पर्यावरण को संरक्षित रखने में युवाओं की जिम्मेदारी पर बल दिया।
वरिष्ठ समाज सेवी जगदीश लाल पाहवा ने सभी संतो को अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम का संचालन प्रमोद शर्मा एवं सुरेश सुयाल ने किया। भारतीय वृक्ष न्यास और युवा संत समाज द्वारा आयोजित कार्यक्रम में समाज के राममुनी जी महाराज, अध्यक्ष युवा साधु समाज शिवम महंत, लोकेशदास जी महाराज, वरिष्ठ पत्रकार राधिका नागरथ, उद्योग जगत से डा महेंद्र आहूजा, दिव्य प्रेम सेवा मिशन से डा जितेंद्र सिंह, एलाइंस इंटरनेशनल से एसएस राणा, विश्व हिंदू परिषद अनिल भारतीय, साधना राघव, शिवांगी शर्मा, वरिष्ठ समाजसेवी अमित सैनी, विश्वास सक्सेना, डॉ विशाल गर्ग, नीता नैयर, रोहन सहगल, सुनील सागर, राजकुमारी, चेतन्य गुरु, दिवाकर गुप्ता, विनोद मित्तल, डा अर्चना सुयाल, सुभाष शास्त्री, संदीप सिंघानिया, हरजीत सिंह, प्रधानाचार्य लोकेंद्र, उप प्रधानाचार्य प्रवीण अरोड़ा, प्रांत संयोजक केदार जोशी, गड़वाल मंडल सह संयोजक प्रो के एस रावत, विद्या भारती से रुद्रप्रताप शास्त्री, स्वतन्त्रता सेनानी उत्तराधिकारी परिवार संगठन के अध्यक्ष देशबंधु एवं महासचिव डा जितेंद्र रघुवंशी, मिनी पुरी, राहुल पाल, साहिल, आयुष, अमन, अनुज, मुकुल कई संस्था प्रमुख, शिक्षाविद मौजूद थे। विद्यालय प्रांगण में सैकड़ों महत्वपूर्ण एवं परंपरागत प्रजातियों के पौधों का सामूहिक रोपण किया गया। 16 सितंबर तक नियमित पौधारोपण अभियान चलाया जायेगा जिसके तहत विद्यालयों, पार्कों, हरित पट्टी तथा सार्वजाजिक स्थानों पर सघन पौधारोपण किया जाएगा।